नवादा के रण में बड़े बड़े योद्धाओं की एंट्री, क्यों NDA और INDIA की नींद उड़ी है? पूरा खेल समझें

City/ State Cover Story बिहार लोकसभा चुनाव 2024

लोक सभा चुनाव 2024(LOK SABHA ELECTION 2024) को लेकर आज 12 अप्रैल को बिहार में राजनीति के बड़े बड़े योद्धाओं का जमावड़ा होने वाला है. आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (NITISH KUMAR) चुनावी यात्रा पर जा रहे हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का आज नवादा में चुनावी कार्यक्रम होना है. बिहार के उपमुख्यमंत्री सम्राट चौधरी भी आज नवादा में चुनावी सभा करते दिखेंगे. तेजस्वी यादव(TEJASHWI YADAV) भी आज नवादा में अपनी जनसभा को संबोधित करते नजर आएंगे. तो चलिए आपको बताते हैं कि क्यों नवादा में इतनी जनसभा हो रही है, क्यों एनडीए और इंडिया गठबंधन दोनों की निंद उड़ी हुई है.

नीतीश कुमार की नवादा में जनसभा
लोक सभा चुनाव 2024 में पहली बार है जब नीतीश कुमार अकेले चुनाव में निकल रहे हैं.इससे पहले वे प्रधान मंत्री की जनसभाओं में ही दिख रहे थें. नीतीश कुमार नावादा में बस से यात्रा निकाल रहे हैं. उनके बस पर “रोजगार मतलब नीतीश कुमार” भी लिखा हुआ है. जिसका सीधा मतलब तेजस्वी यादव की रोजगार वाली दावेदारी को चुनौती देना हैं. नवादा में खूब कुर्मी और कुशवाहा वोटरों में सेंधमारी हो रही है. आज वारसलिगंज में नीतीश कुमारजन सभा करेंगे जहां भूमिहार और कुर्मी बहूल है.

सम्राट चौधरी भी नवादा में
नीतीश कुमार के अलावा आज नवादा में सम्राट चौधरी की जनसभा होने वाली है. सम्राट चौधरी कुशवाहा जाति से आते हैं. राजद की तरफ से श्रवण कुशवाहा को उम्मीदवार बनाया गया है जिसेक कारण वहां कि वोट में खूब सेंधमारी हो रही है. यहीं कारण है कि आज सम्राट चौधरी भी नवादा में चुनावी जनसभा कर ताल ठोकते हुए नजर आएंगे.

तेजस्वी यादव भी नवादा जा रहे हैं.
एनडीए की तरफ से नीतीश कुमार, सम्राट चौधरी तो इंडिया की तरफ से तेजस्वी यादव भी जनसभा करते हुए नजर आएंगे. राजद की तरफ से बागी विनोद यादव जो राजद के दमदार नेता राजबलल्भ यादव के छोटे भाई हैं. उन्होंने राजद और तेजस्वी यादव की निंद उड़ा रखा है. विनोद के साथ राजद के 2 विधायकों का समर्थन मिला हुआ है. वनोद की भाभी विभा देवी और रजौली विधायक प्रकास वीर ने खूल कर विनोद का समर्थन कर दिया है.

2 निर्दलीय उम्मीदवारों ने बिगाड़ा समीकरण
एक तरफ जहां विनोद यादव ने यादव वोट में सेंधमारी करके राजद की निंद उड़ा रखा है तो वही दूसरी तरफ भोजपूरी के गायक गुंजन सिंह भी निर्दलीय मैदान में ताल ठोक रहे हैं. गुंजन सिंह भूमिहार जाति से आते हैं जो भाजपा की वोट में सेंधमारी करके भाजपा का खेल बिगाड़ रहे हैं. यहीं कारण है कि भाजपा और राजद दोनों परेशान हैं

कुशवाहा वोटर नवादा में कट रहे हैं
राजद ने श्रवण कुशवाहा को उम्मीदवार बनाया है जिसके कारण नवादा के कुशवाहा और कुर्मी वोटर भाजपा से अलग जाते दिख रहे हैं इसके अलावा डॉन अशोक महतो का भी फैक्टर भी चल रहा है. पहले अशोक महतो नवादा से ही टिकट चाहते थे लेकिन अंत में उनकी पत्नी अनीता को मुंगेर से टिकट दिया गया.

सीएम योगी की नवादा में जनसभा
प्रधानमंत्री की सभा के बाद भी नवादा में कोई प्रभाव नहीं पड़ा है. क्योंकि उस रैली में वहीं लोग गए थे जो भाजपा के वोटर हैं.यहीं कारण है कि अब उत्तर प्रदेस के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रैली की तैयारी हो रही है. राम नवमी के अवसर पर वहां बड़ा रैली करने का प्लान हो रहा है. राम ध्वज के सहारे बीजेपी अपना समीकरण साध सकती है. नवादा के रण में कुल मिलाकर बड़े बड़े राजनीतिक योद्धाओं का जमावड़ा होने वाला है.