रामायण की सीता अनूप जलोटा सँग हिन्दुत्व का अलख जगाने जल्द आ रही हैं मास्क टीवी ओटीटी पर .!

Cover Story Entertainment
हिंदुत्व ” यह सुनते ही जो आपके मन मस्तिष्क में पहला ख्याल आता है वही आपका हिंदुत्व के प्रति लगाव साबित करता है । इस हिंदुत्व के बल पर इस देश मे ना जाने कितने लोगों की रोजी रोटी भी चल रही है तो कोई इस हिंदुत्व को दिनरात अपशब्द बोलकर भी सुर्खियों में रहना चाहता है। इसी हिंदुत्व की असली ताकत को जनमानस के बीच लेकर आने का एक सार्थक प्रयास मास्क टीवी ओटीटी प्लेटफॉर्म द्वारा किया गया है । जिसे जल्द ही दर्शकों तक पहुँचाया जाएगा। टीवी धारावाहिक रामायण से हिंदुस्तान के हर घर मे अपनी खास पहचान बना चुकी दीपिका चिखलिया उर्फ रामायण की सीता हिंदुत्व का अलख जगाने हर घर मे जल्द ही दस्तक देने वाली हैं । आगामी कुछ दिनों में जल्द ही यह हिंदुत्व मास्क टीवी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज़ किया जाएगा । जिसमें दीपिका चिखलिया, अनूप जलोटा जैसी शख्सियतें हिंदुत्व की ताकत बताते हुए नज़र आएंगे ।
आमतौर पर हमारे देश भारत मे हिंदुत्व की बात करना भी कुछ लोगों को सांप्रदायिकता लगती है जबकि वही लोग दिन रात किसी अन्य धर्म की टोपी पहने अपने आप को सेक्युलर साबित करते रहते हैं । यह इस देश की विडंबना ही कही जाएगी कि जिस देश मे 110 करोड़ हिन्दू वास करते हैं उसी देश मे हिंदुत्व के बारे में बात करना अपराध कैसे हो गया यह भी समझ से परे ही है । अब इसी परिपाटी के टूटने का समय आ चुका है और हिंदुत्व अब हर घर मे शान से अपनी पहचान उजागर करने को तैयार है । इसी हिंदुत्व का अलख जगाने मशहूर भजन सम्राट अनूप जलोटा , रामानंद सागर की रामायण से घर घर माता सीता के रूप में हिंदुत्व का अलख जगा चुकी दीपिका चिखलिया बहुत जल्द ही मास्क टीवी ओटीटी पर प्रसारित होने वाले हिंदुत्व में नजर आएंगे ।
इस हिंदुत्व की बात करते हुए दीपिका कहती हैं कि हमने तो उस दौर में हर घर मे भगवान और हिंदुत्व को पहुंचाया था जिस दौर में भारत मे सेक्युलरिज्म चरम पर था। अब तो ख़ैर हालात भी उतने मुश्किल नहीं रहे । हमें गर्व होना चाहिए अपनी हिंदुत्व वाली सँस्कृति पर। यह वसुधैव कुटुम्बकम वाली परम्परा है और हमें अपनी हिंदुत्व वाली परम्परा का निरन्तर निर्वहन करते रहना है ।
इस हिंदुत्व के ट्रेलर में एक जगह अनूप जलोटा का सम्वाद सबको अपनी ओर आकर्षित करता है कि दुनिया मे बाकी धर्मों की छोड़ो ,जब हम हिन्दू हैं और यदि हम इस देश से निकाले गए तो यहाँ से विस्थापित होने के बाद क्या दुनिया मे दूसरा कोई दूसरा देश है जो हमें शरण दे सके ? जहाँ हम जाकर स्वेच्छापूर्वक रह सकें ? यह सवाल उन सबके लिए करारा तमाचा है जो यह कहते आये हैं कि हिंदुत्व की बात करना बेमानी है । इस मसले पर खुद अनूप जलोटा बताते हैं कि हाँ हमारे द्वारा फ़िल्म में बोला गया सम्वाद भले ही फिल्मी है लेकिन यह वास्तविकता में भी उतना ही प्रासंगिक है जितना फ़िल्म में ।
फ़िल्म हिंदुत्व के निर्देशक करण राजदान ने एक सवाल के जवाब में बताया कि हमारे पास जब इस विषय को लाया गया तभी हमने निर्णय ले लिया था कि इस विषय पर हम दुनिया के सामने एक बेहतरीन फ़िल्म बनाकर लाएंगे । हिंदुत्व सिर्फ हमारी फ़िल्म नहीं है , यह 110 करोड़ हिंदुओं की पीड़ा और संवेदना है । जब हम अपने ही देश में हिंदुत्व की बात नहीं करेंगे तो क्या दुनिया के उन 56 देशों में जाएंगे जहाँ की काफिरों को उनका मजहब नहीं स्वीकारने पर सर कलम करने का फतवा जारी किया जाता है ? हिंदुत्व हमारी असली पहचान है , और इसे ज़िंदा रखना ही होगा ।
टैग प्रोडक्शन्स के बैनर तले बनी फिल्म हिंदुत्व के निर्माता हैं चिरंजीवी भट्ट और अंजू भट्ट । इस हिन्दुत्व के निर्देशक हैं करण राजदान । फ़िल्म में श्वेता राज के लिखे गीत पर संगीत दिया है रवि शंकर ने ,जिन्हें सुरों में पिरोया है दलेर मेहदी, अनूप जलोटा, मधुश्री, दिव्या कुमार, और मास्टर सलीम ने । इस हिंदुत्व के कलाकार हैं, आशीष शर्मा , सोनारिका भदौरिया, अनूप जलोटा, दीपिका चिखलिया, गोविंद नामदेव । चैनल प्रोड्यूसर मानसी भट्ट बताती हैं कि बहुत अरसे बाद देश मे एक ऐसी फिल्म आ रही है जिससे कि हमारे पूरे समाज को गर्व होगा । इस देश मे सबकी बात होती आई है लेकिन कोई हिंदुत्व की बात नहीं करता था, अब हमारे देश मे हिदुत्व का सबसे बड़ा प्रतीक श्री राम का मंदिर भी बन रहा है और अब देश मे बहुत जल्द ही हर घर मे हिंदुत्व की भी बात होगी ।