थियेटर में गूंज रहा है भारत माता की जय .! प्रिंस सिंह राजपूत की फ़िल्म के गाने हुए वायरल ।

Entertainment
भोजपुरी फिल्मों के हीमैन प्रिंस सिंह राजपूत ने आज थियेटर में जबरदस्त तरीके से धावा बोला है । बम्बई से लेकर उत्तरप्रदेश सहित बिहार झारखण्ड के थियेटरों में आज केवल भारत माता की जय जयकार ही सुनाई दे रही है । इस भारत माता की जय जयकार के साथ आज सिनेमाघरों की टिकट खिड़कियां भी एक बार फिर से गुलज़ार हो चली हैं । क्योंकि फिल्मी दृष्टिकोण से पिछला महीना बॉक्स ऑफिस के लिए काफी सुखप्रद रहा है । उसी कड़ी में आज प्रिंस सिंह राजपूत अभिनीत भोजपुरी फ़िल्म को देखने थियेटरों में भारी भीड़ उमड़ी है । और सिनेमाघरों के अंदर से लेकर बाहर तक भारत माता की जय के नारे सुनाई दे रहे हैं । लोगों के बीच ऐसा उत्साह देखकर तो यही लगता है कि वो कौन इंसान होगा जिसे अपने देश से प्रेम नहीं होगा .? या फिर वो कौन सा इंसान होगा जो भारत माता की जय का नारा सुनने के बाद भी देशभक्ति के रंग में सराबोर नहीं होगा । ठीक उसी तरह के देशभक्ति के रंग में रंगे और पूरे भारतवर्ष को हर्षोल्लास में डूबा देने के लिए अभिनेता प्रिंस सिंह राजपूत भारत माता की जय को लेकर आज से सिनेमाघरों में हाज़िर हुए हैं ।
                      बात फ़िल्म की कहानी की करें तो इस फ़िल्म भारत माता की जय के जरिये आतंकवादी घटनाओं को नजदीक से दिखाने की कोशिश है और इसमें यह बताया गया है कि पाकिस्तानी आतंकवादी किस तरह से हमारे देश मे घुसकर आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने की फिराक में लगे रहते हैं । वहीं उनके सरपरस्त आका पाकिस्तान से ही उन्हें ब्रेनवाश करके निर्देशित करते रहते हैं । उन आतंकवादियों के नापाक इरादों को भारतीय सीमा में किस प्रकार से हमारे वीर जवानों द्वारा न्यूट्रलाइज किया जाता है । यही इस फ़िल्म की मूल कहानी है। निर्देशकीय प्वाइंट ऑफ व्यू से देखा जाए तो संसाधनों के अनुरूप निर्देशक ने यथासम्भव बेहतर बनाया है ।
                      एक्शन इस फ़िल्म की खूबसूरत कड़ी है और प्रिंस सिंह राजपूत अपने भारी भरकम डील डॉल के साथ इस रोल में फिट बैठते भी हैं ।प्लस प्वाइंट यह है कि काफी खतरनाक एक्शन से प्रिंस ने इस फ़िल्म के एक्शन सीक्वेंस में जान फूंक दिया है । फाइट मास्टर ने इस फ़िल्म में प्रिंस सिंह राजपूत से जमकर काम निकलवाया है। और हर एक्शन सीक्वेंस में यह बात सामने दिखाई भी दे रही है ।
                            फ़िल्म के गीत संगीत इस फ़िल्म की भव्यता में चार चांद लगा देते हैं । मधुकर आनंद के संगीत निर्देशन में जो गीत कैलाश खेर ने गाया है वो गीत हो या फिर बाकी के गीत संगीत , सबने सिचुएशन के हिंसाब से बेहतरीन एडजस्टमेंट दिखाया है, इससे फ़िल्म का ग्राफ भी थोड़ा और ऊपर उठ सकता है । कर्णप्रिय गीत संगीत के साथ इस फ़िल्म में रोमाँच और रोमांस का तड़का भी देखने को भरपूर मिल रहा है ।
                                 अब बात अभिनय की करें तो पाकिस्तानी आतंकवादी सरदार के चरित्र में सुशील सिंह ने बेहतरीन काम किया है । उन्होंने यह करके दिखाया है कि उनके अभिनय कौशल का सही से सदुपयोग किया जाए और उन्हें उनकी योग्यता के अनुसार कैरेक्टर दिया जाए तो वे कठिन से कठिन किरदारों को भी सुगमतापूर्वक कर गुजरेंगे । उनके हावभाव व पहनावे में बिल्कुल पठानी आतंकवादी नज़र आता है । वहीं भारतीय पुलिस अधीक्षक के रूप में अमित शुक्ला ने भी सधा हुआ अभिनय किया है । समय समय पर जरूरत के अनुसार उनके हाव भाव भी वैसे बदले हैं जैसे स्क्रिप्ट की जरूरत थी । उसके अलावा बालेश्वर सिंह ने आतंकवादी के रूप में व ब्रजेश त्रिपाठी ने आम हिंदुस्तानी के रूप में बेहतरीन चरित्र निभाया है । अब जहां बात आती है प्रिंस सिंह राजपुत के अभिनय की तो उन्होंने अपने अभिनय के हर सेगमेंट में जान फुंक दिया है । उनके द्वारा पुलिस इंस्पेक्टर का निभाया गया किरदार एक जबरदस्त आउटपुट के साथ निकलकर सामने आया है । जहां एक तरफ उन्होंने देश मे घुसे हुए आतंकवादियों का अपने तरीके से खात्मा किया है वहीं दूसरी ओर रोमांस के मामले में भी उन्होंने पायस पंडित के साथ कमाल का बॉन्डिंग शेयर किया है । इस फ़िल्म को देखने के बाद यही महसूस होगा कि यह किरदार प्रिंस सिंह राजपूत को बतौर हीरो ध्यान में रखकर ही लिखी गई थी । अब बात फ़िल्म की अभिनेत्री पायस पंडित के अभिनय की करें तो पायस पण्डित ने भी फ़िल्म में अपनी जबरदस्त अदाकारी से सबका ध्यान खींचा है ।हर सम्वाद के बाद उसके अनुरूप रिएक्शन और भाव भंगिमाओं का परिस्थिति के अनुसार समावेश करना पायस पण्डित ने बखूबी प्रेजेंट किया है । उनकी हर एक अदायगी में गजब का आकर्षण दिखाई देता है।
                           ब्राईट सन प्रस्तुत फ़िल्म भारत माता की जय के निर्माता हैं सतीश पोद्दार व हर्षित मिश्रा । इस फ़िल्म के लेखक हैं एस के चौहान । वहीं निर्देशन किया है सुजीत कुमार सिंह ने । गीत लिखा है प्यारे लाल यादव , विनय बिहारी , आशुतोष तिवारी ने जिनपर संगीत मधुकर आनंद ने बनाया है । जिन्हें सुरों से सजाया है कैलाश खेर, प्रियंका सिंह , इंदु सोनाली, विजय चौहान व पवन परदेशी ने । फ़िल्म में मारधाड़ कराया है प्रदीप खड़का ने वहीं नृत्य निर्देशन किया है कानू मुखर्जी ने । भारत माता की जय के प्रचारक हैं संजय भूषण पटियाला ।