प्रोडक्शन मैनेजर से प्रोड्यूसर तक का सफ़र आसान नहीं था – अनन्त कुमार गुप्ता .!

Entertainment

कहते हैं कि खुदी को कर बुलंद इतना कि हर तकदीर से पहले खुदा बन्दे से खुद पूछे बता तेरी रजा क्या है ! अलम्मा इकबाल की ये पंक्तियां अनंत कुमार गुप्ता पर अक्षरशः सही बैठती हैं । सन 1992 में आई सुपरहिट फिल्म दिल ही तो है से बतौर असिस्टेंट प्रोडक्शन मैनेजर इस इंडस्ट्री में कदम रखने वाले अनंत कुमार गुप्ता आज इस इंडस्ट्री में किसी पहचान के मुहताज नहीं हैं । इस इंडस्ट्री से जुड़ा शायद ही ऐसा कोई टेक्नीशियन या कलाकार होगा जो इनको बाकायदा नहीं पहचानता होगा । इन्होंने लम्बे समय तक इंडस्ट्री में काम करने के बावजूद सफ़लता को काफी विनम्रता से स्वीकार किया है । जो कि काफी बड़ी बात होती है, क्योंकि फ़िल्म इंडस्ट्री में मिली सफ़लता जल्द किसी को सम्भलती नहीं, लेकिन गुप्ता जी इन सबसे बिल्कुल ही अलग किस्म के सफल फिल्ममेकर हैं । अनंत कुमार गुप्ता दिल ही तो है के तुरंत बाद जागृति किया और फिर, और फिर गीत जैसी फिल्म में इन्होंने बतौर प्रोडक्शन मैनेजर काम करना शुरू कर दिया। उसके बाद तो श्री गुप्ता के पास फिल्मों की लाइन ही लग गई थीं और इन्होंने लगातार प्लेटफॉर्म, गोपी किशन, मिलन , खिलौना , स्मगलर, परदेशी बाबू के साथ लगभग 13 फिल्में बतौर प्रोडक्शन मैनेजर किया ।

इसके बाद इन्होंने बतौर मार्केटिंग और डिस्ट्रीब्यूटर के तौर पर भी मंटो, राजी , धर्म संकट में सहित लगभग 12 फिल्मों का डिस्ट्रीब्यूशन और मार्केटिंग का भी काम किया । इतना सब करने के बाद भी अनंत कुमार गुप्ता अपना खुद का कुछ करना चाहते थे , क्योंकि उनका मानना ये था कि आप जबतक अपना खुद का कुछ भी इस इंडस्ट्री में नहीं कर लेते तब तक आपको सुकून नहीं मिल सकता । तब इन्होंने इस इंडस्ट्री में बतौर निर्माता उतरने की ठान लिया और सन 2011 में अपनी पहली फ़िल्म सोनी दे नखरा प्रोड्यूस किया। फ़िल्म तो हिट हुई ही इसके साथ ही अनंत ने लगातार इस इंडस्ट्री में अब मल्टी लेबल काम करने लगे , उन्होंने सोनी दे नखरा के बाद और भी तीन बड़ी फिल्में प्रोड्यूस की ।

इसके अलावा इन्होंने एक फ़िल्म द ब्रिज की कहानी भी लिखा है । और अब इतना कुछ करते हुए अनंत कुमार गुप्ता इस बार एक नई फिल्म नया दौर का का निर्माण करने जा रहे हैं । इस नया दौर में इसबार इनके अभिनेता हैं श्रेयस तलपड़े । अनंत कुमार गुप्ता के बारे में बात करते हुए फ़िल्म के लीड एक्टर श्रेयस तलपड़े ने बताया कि गुप्ता जी बहुत लंबे समय से इंडस्ट्री में विभिन्न प्रकार से सक्रिय हैं और इनका नाम बहुत ही इज्जत के साथ लिया जाता है । इनके साथ इस फ़िल्म में काम करके अपने आप को हम गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं । इस फ़िल्म को लेकर श्रेयस तलपड़े कहते हैं कि उन्होंने कई बड़ी फिल्में की हैं और उनमें से कई फ़िल्में तो सैकड़ों करोड़ का व्यवसाय कर चुकी हैं लेकिन उनमें कहीं ना कहीं मसाला फिल्मों का समावेश अधिक था , ये नया दौर एक अलग तरह का सिनेमा है और इसको करने में काफी आनंद आएगा । फ़िल्म की शूटिंग इंदौर में शुरू होगी और आगे इस फ़िल्म की शूटिंग लंदन में भी की जाने वाली है । फ़िल्म नया दौर के लेखक हैं अनंत कुमार गुप्ता व निर्देशक हैं रविन्द्र राम पाटिल, डीओपी हैं योगेश कोली, इस नया दौर में कुल 3 गाने हैं जिन्हें लिखा हैं कृष्णा भारद्वाज और शेख अहमद ने और संगीत से सजाया है अमित त्रिवेदी के साथ विशाल मिश्रा ने । फ़िल्म की डांस मास्टर हैं सबीना खान । इस नया दौर के कलाकार हैं श्रेयस तलपड़े, श्रद्धा दास, मनवीर गुज्जर, संजय मिश्रा व अन्नू कपूर ।